WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

क्या भारत कर्जे में डूब रहा है, जानिए संपूर्ण जानकारी

भारत पर पाकिस्तान से पाँच गुना जादा कर्जा है। भारत पर 635 बिलियन डॉलर का कर्जा है।तो क्या सच में भारत कर्जे के नीचे दबा हुआ है और कभी भी डूप सकता है।या फिर इस मुद्दे को भी सिर्फ राजनीती के लिए इस्तमाल किया जा रहा है।और पिक्चर कुछ और ही है हम आपको बताते हैं।

किसी भी देश में इंट्रा स्ट्रक्चर बनाने और विकास करने के लिए ज्यादा से ज्यादा पैसे की आवश्यकता होती है। और यह पैसा आता है अलग-अलग कंपनियों और देश की इन्वेस्टमेंट से आता है जिसे फॉरेन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट कहते हैं या FDI ।

यहां यह जानना बहुत ही आवश्यक है कि जब पाकिस्तान जैसा कंगाल देश चीन से कर्जा मांगता है तो वह चीन की सारी कंडीशन और नियमों को मानता है। चीन जैसा देश अपनी कंडीशन के हिसाब से पैसा या उधार देता है।

लेकिन जो भारत में पैसा आता है उसे हम कर्जा नहीं बोल सकते हैं। उसे हम इंवेस्टमेंट बोल सकते हैं। क्योंकि विदेशी कंपनियां बढ़ती इकोनांमी ग्रोथ को देखते हुए। भारत के सारे नियमों को मानने के बाद ही इन्वेस्टमेंट करती है। यानी यह पैसा भारत की शर्तों पर आया है। मजबूरी में नहीं। यह कर्जा नहीं इन्वेस्टमेंट है।

आपको यह जानकर हैरानी होगी कि इस हिसाब से तो अमेरिका और चीन पर भारत से 50 गुना अधिक कर्जा है।

इसलिए दोस्तों इस प्रकार की भ्रांतियां अधिक न फैलाएं। और हमारे इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा शेयर जरूर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस जानकारी के बारे में जान पाए।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment